Wo Apni Ankhon Mein Goonj Chand | Poetry Lyrics | G Talks

Wo Apni Ankhon Mein Mere Ishq Ka Khwab Rakhte Hai Is Another Beatifull Love Romantic Poetry Lyrics By Goonj Chand Labeled With G Talks

Wo Apni Ankhon Mein Goonj Chand  Poetry Lyrics  G Talks
Wo Apni Ankhon Mein Goonj Chand  Poetry Lyrics  G Talks

वो अपनी आँखों मैं मेरे इश्क़ का ख्वाब रखते है 
थोड़े पागल है महोबत्त  को सरेआम रखते है 
कह दो उनसे वो थोड़ा थो लिहाज़ करे महोबत का 
क्यों किसी और की  महोबत पर नज़ारे खास रखते है  

समंदर मैं रहकर आग पर निगाह रखते है 
और शायरी के बहाने वो अपना दिल ए  इजहार रखते है
 और ये वो भी जानते है की ये टूटे दिल वालो की महफ़िल है जनाब 
फिर यहाँ दील जोड़ने के जज्बात रखते है 

वो अपनी आँखों मैं मेरे इश्क़ का ख्वाब रखते है

वो अपने होठो पर हमेशा अपनी बात रखते है 
भरी महफ़िल मैं मेरे लिए अपने जज़्बात रखते है 
और बन जाये जो हमारी शर्मिंदगी का सबब
 क्यों हमारे सामने ऐसे हालत रखते हैं 

वो अपनी आँखों मैं मेरे इश्क़ का ख्वाब रखते है


 तुलना मैं मेरी वो सामने चाँद रखते है 
और अपने अल्फाजो की मेरी पेरो पर कायनात रखते है 
और कोई तो समझाए इन्हे मुझसे दूर रहे 
क्यों जीने की उम्र मैं ज़हर की चाह रखते है 

वो अपनी आँखों मैं मेरे इश्क़ का ख्वाब रखते है 
थोड़े पागल है महोबत्त  को सरेआम रखते है 

Itni Asani Se Toh Tu Mujhe Bhula Bhi Nahi Sakta | Goonj Chand | Poetry

छुपा भी नहीं सकता दिखा भी नहीं सकता 
है कितना दर्द तुझे तू किसे बता भी नहीं सकता 

हर मोड़ पर टकराएंगी तुझसे यादे मेरी 
इतनी आसानी से तो तू मुझे भुला भी नहीं सकता 

छुपा भी नहीं सकता दिखा भी नहीं सकता

जा ढूंढ ले मिल जाएँगी बहुत सी परिया तुझे 
पर मेरी जैसी तो तू कभी पा नहीं सकता 

और दीवार बनकर इस तरह तेरे रास्ते मैं हु 
के मेरे बिना तो तू अपनी मंजिल तक भी जा नहीं सकता 
और इतनी आसानी से तो तू मुझे भुला भी नहीं सकता 

दूर हु पर जुदा नहीं ये बात समझले तू 
मेरे आलावा तेरी जिंदगी मैं कोई आ भी नहीं सकता 
और जिस्म क्या है तेरी रूह तक को छुआ मैंने 
तुझको कोई दूसरा हाथ लगा भी नहीं सकता 
और इतनी आसानी से तो तू मुझे भुला भी नहीं सकता 

करले कोशिस भूलने की अगर भूल सकता है तो 
पर अपनी जिंदगी से तू अपना वजूद मिटा भी नहीं सकता 
ये बात सच है पूरी तरह ये भी जानता है तू 
के मेरे सिवा तेरा साथ कोई निभा भी सकता 
और इतनी आसानी से तो तू मुझे भुला भी नहीं सकता 


छुपा भी नहीं सकता दिखा भी नहीं सकता 
है कितना दर्द तुझे तू किसे बता भी नहीं सकता 

Thanks For Reading Wo Apni Ankhon Mein Or
Itni Asani Se Toh Tu Mujhe Bhula Bhi Nahi Sakta
 Poetry Lyrics By Goonj Chand Labeled WIth G Talks



Goonj Chand Poetry Video

Post a comment

1 Comments